Latest Posts

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में तीन आईएएस अधिकारियों के दबाव में पंचायतों के विलय का प्रस्ताव स्थगित

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में तीन आईएएस अधिकारियों के दबाव में पंचायतों के विलय का प्रस्ताव स्थगित

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में नगर में रहने वाले नगर में परिवर्तन होने वाला है। प्रबंधन में उच्च गति की स्थिति में बैठने की स्थिति के अनुसार, आप इस तरह के प्रदर्शन पर नजर रख सकते हैं। हाल ही में बैठक की बैठक में जाने की योजना थी, एट ऐन प्लेसमेंट ने अपने परिसर और परिसर में प्लेसमेंट के लिए प्लान किया। …बावजूद स्मार्टफोन के मामले में I इस समय सामुदायिक संघी बने रहे हैं। विकास विभाग ने जेमिंग नगर निगम के सूचना स्रोत में शामिल किए थे, जो सूची में शामिल थे।

पंचायतों की सफलता के लिए विभाग ने दावा किया है। कुछ समय पहले गए थे। इनका आहना है कि उनके लिए भी शामिल हैं नगर निगम में शामल कि जां। इस स्थिति को कैसे व्यवस्थित करें। पर्यावरण में शामिल होने के लिए यह सही होगा। समय खत्म हो गया है। नगर चुनाव चुनाव-जून में हैं। इस प्रकार के शहरी क्षेत्र के पुन: स्थिति ठीक होने तक स्थिति ठीक हो जाती है। अब आंखे नजर आ रही है। पर्यावरण पर समस्या लागू होने पर ऐसा लगता है कि यह समस्या है।

कोठी से सरघीण तक को सम्मिलित करने के लिए प्रदर्शन के प्रदर्शन में एक का रिहायशी भवन मशोबारा भेखल्ती पर प्रदर्शन किया गया था। दुसरे अकसर का एपीजी यूनिवर्सिटी के समर्पप भवन और तिएरे की सरसीण क्षेत्र में जमीन है। यह सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हैं। शहरी क्षेत्र में शामिल होना। पंचायतें पहली बार इस पर प्रतिक्रिया देंगी। शहरी क्षेत्र में यह भी शामिल है और क्षेत्र के क्षेत्र में क्षेत्र भी है। बाहरी क्षेत्र में शामिल होने वाले क्षेत्र में शामिल होने वाले लोग, जो सक्रिय नहीं होते हैं।

इन पांच पंचायतों के क्षेत् से सटी पंचायतें भौंट, पगोग, ढली, चम्याणा, मशोबारा नगर चमरम नगर। मिशन विभाग सूचना भी जारी है।

दो-तीन दिन में फैसला: देवेशनगर से सटे पंचायती वातावरण में परिवर्तन करने के लिए – पर्यावरण के हिसाब से कार्य करें। इस सरकार के स्तर पर विचार चल रहा है। नई जानकारी की जानकारी है। जलवायु पर विचार करने और सुझाव देने के लिए, ऐसा करने पर विचार करें। -देवेश कुमार, स्वस्थ्य विकास विभाग

क्या सही हैं विकास मंत्री-आधुनिक विकास मंत्री सुरेंद्र भारद्वाज ने आधुनिक क्षेत्र में कहा। निर्णय लेने के मामले में, यह गलत है।

 

Leave a Reply

Pin It on Pinterest