Latest Posts

होली लॉज-वीरभद्र सिंह का गढ़, भेदने की फिराक में BJP, 2017 में बराबरी का मुकाबला था | हिमाचल विधानसभा चुनाव 2022: शिमला संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस का पवित्र लॉज-वीरभद्र सिंह का गढ़, बीजेपी कर रही घुसपैठ की कोशिश

[Nurpur Hindi News ]

पवन ऊर्जा/सोलन34 मिनट पहले

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रभाव संबंधी दृष्टिकोण क्षेत्रों में कांग्रेस की साख तय करेगी। यह संसदीय क्षेत्र कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। विशेष रूप से, पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे लेट वीरभद्र सिंह का इस क्षेत्र में दबदबा रहा है। इस बार उनके बिना कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव लड़ा। इसलिए सभी की नजर है कि इस बार संवादात्मक संबंधों में ‘हॉली लॉज’ का प्रभाव काफी हो रहा है।

1985 के बाद पहला चुनाव वीरभद्र सिंह के बिना
दूसरी ओर भाजपा के लिए डबल इंजन सरकार की हालत कांग्रेस के इस गढ़ को भेदने की चुनौती है। 1985 के बाद प्रदेश का यह पहला विधानसभा चुनाव है, जब कांग्रेस के पास वीरभद्र सिंह नेता नहीं हैं। इसके बावजूद हॉली लॉज के दबदबे को कम नहीं किया जा सकता। यह वीरभद्र सिंह के प्रति लोगों की सहानुभूति थी कि 2021 में ही विपरीत गुणों के बाद भी उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह लोकसभा उप चुनाव जीत गईं।

वहीं देखें जयराम ठाकुर का गृह जिला है और जिले की सभी 10 सीट भाजपा के पास आए। टैलेंट सिंह इस समय कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं तो संचारी कार्यक्षेत्रों में पार्टी के प्रदर्शन को हॉली लॉज की साख से भी जोड़ते हुए देखेंगे। अभी तक हिमाचल की राजनीति में वीरभद्र सिंह के कारण इस क्षेत्र का प्रभुत्व है। इस वर्चस्व को कौन आगे लघुचित्र, इसका निर्णय भी विधानसभा चुनाव के परिणाम तैयार करने वाले हैं।

सीमा क्षेत्र में 17 सीट्स
संवादात्मक क्षेत्र में कुल 17 विधानसभा सीटें आती हैं। हर जिले की 7, सोलन और सिरमौर जिले की 5-5 सीटें शामिल हैं। परिचित जिले की रामपुर सीट मिलने का हिस्सा है।

2017 में कांग्रेस-भाजपा में बराबरी का मुकाबला
हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में इस विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस और भाजपा में प्रतिस्पर्धा बराबरी पर है। दोनों ही मुखिया जुड़ते हैं 8-8 जुड़ते हैं। संचारी जिले की रोहड़ू, कुसुम्पटी, सामान्य ग्रामीण, सोलन जिले की अरकी, नालागढ़, सोलन सदर, सिरमौर जिले की श्री रेणुका जी और शिलाई सीट पर कांग्रेस सतर्कता।

भाजपा ने पैसिव की जुब्बल-कोटखाई, चौपाल, आधुनिक शहरी, सोलन जिले के दून, कसौली, सिरमौर जिले की पच्छाद, नाहन व पांवटा साहिब की सीट पर जीत दर्ज की थी। ठियोग की सीट माकपा के राकेश सिंघा ने देखा। कांग्रेस के गढ़ में बराबरी करने से ही बीजेपी सत्ता पर काबिज होने में कामयाब हो रही है।

बीजेपी ने लॉगिंग की बार-बार साइट्स
बीजेपी इस चुनाव में डबल इंजन सरकार से मिलने वाले लाभ के आंकड़े ले रही है। अगर टूटा पार्टी हिमाचल का संबंध बदलने की बात करती रही। बीजेपी के पास मजबूत दिशानिर्देश हैं। पार्टी ने संचार क्षेत्रों की ऐसी सीटों को लोगोत की थी, जहां पार्टी लगातार हार रही है। इनमें रोड़ू, ठियोग, कुसुम्पटी, पैशिक ग्रामीण, सोलन जैसी सीटें हैं। इन विकारों पर विशेष ध्यान दिया गया। अब इसमें भाजपा कितनी संभव हुई, इसी पर पार्टी का प्रदर्शन भी समाप्त होगा।

खबरें और भी हैं…

[Nurpur Hindi News ]

Latest Himachal News – Nurpur News

Leave a Reply

Pin It on Pinterest