Latest Posts

पवन काजल का विरोध; 2 भर चुके निर्दलीय नामांकन; CM संभाल रहे डैमेज कंट्रोल प्लान | Himachal Assembly Elections 2022: Rebel Leaders of Kangra May Change The game; CM took over the command of Dammage Control


धर्मशाला/कांगड़ा26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल में भाजपा के ‘मिशन रिपीट’ का गेम प्रदेश के सबसे बड़े विधानसभा क्षेत्र कांगड़ा के 5 बागी नेता बिगाड़ सकते हैं। ज़िले के पांचों विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी को बगावत का दंश झेलना पड़ रहा है।

वहीं जिला कांगड़ा में डैमेज कंट्रोल करने की कमान स्वयं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने संभाल रखी है। जयराम ठाकुर ने ज़िले में बागी तेवर अपनाए सभी नेताओं से फ़ोन पर संपर्क साधा है। वहीँ RSS प्रचारक भी बागियों की सभी गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं। बगावत से परेशान भारतीय जनता पार्टी ने नेताओं के लिए चेतावनी जारी की है।

इन नेताओं ने अपनाए बागी तेवर

भाजपा ने नूरपुर से कैबिनेट मंत्री राकेश पठानिया को फतेहपुर भेजा, लेकिन यहां पूर्व प्रत्याशी रहे कृपाल परमार बागी हो गए हैं। वे निर्विरोध चुनाव लडऩे का ऐलान करके नामांकन भर चुके हैं।

इंदौरा से विधायक रीता धीमान को टिकट मिला है, लेकिन यहां भाजपा के दूसरे नेता एवं पूर्व विधायक मनोहर धीमान भी चुनाव मैदान में निर्दलीय उतरने का ऐलान करके नामांकन भर चुके हैं।

जवाली सीट से पार्टी ने अर्जुन सिंह का टिकट काटा है और संजय गुलेरिया को प्रत्याशी बनाया है, लेकिन अब समर्थकों के दबाव में अर्जुन सिंह भी चुनाव मैदान में उतर गए हैं।

धर्मशाला में विशाल नैहरिया का टिकट काटकर राकेश चौधरी को देने से पूरा भाजपा मंडल बागी है और अपना प्रत्याशी अलग से उतारने का ऐलान कर चुका है।

कांगड़ा में कांग्रेस से भाजपा में आए पवन काजल को पार्टी का चुनाव टिकट तो मिल गया, लेकिन पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक संजय चौधरी के रूख पर सबकी नजरें टिकी हैं।

जसवां परागपुर विधानसभा क्षेत्र में पिछले 2 विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज करवा चुके विक्रम सिंह ठाकुर को इस मर्तबा क्षेत्र से संबंध रखने वाले समाज सेवी कैप्टन संजय पराशर चुनौती देते नज़र आ रहे हैं।

खबरें और भी हैं…



Latest Himachal News – Nurpur News

Leave a Reply

Pin It on Pinterest