Latest Posts

कोर्ट में पेश चार्ज साइज की पूरी कहानी, फौजी-छात्रा दशक, हिमाचल के सन्नी-रंकज को पुलिस की क्लीन चिट | चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो कांड में चार्जशीट दाखिल ताजा खबर

[Nurpur Hindi News ]

चंडीगढ़11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पंजाब के मोहाली स्थित चंडीगढ़ विश्वविद्यालय (सीयू) में एक छात्रा द्वारा न्यूड वीडियो जारी किए जाने के मामले में गुरुवार को खरड़ पुलिस ने स्थानीय कोर्ट में चार्ट को साइजिक कर दिया है। भारतीय सेना के युवा संजीव सिंह सहित छात्र के आकार के हिसाब से सबसे बड़ा अंक बनता है। वहीं पुलिस सूत्रों के अनुसार, संचार के दोनों युवकों रंकज वर्मा और सन्नी मेहता को बुकमार्क की श्रेणी से बाहर रखा गया है। हालांकि पुलिस का कहना है कि कोर्ट अब इस मामले में सुनवाई के दौरान बाकी कार्रवाई करेगी।

बता दें कि अब कोर्ट में मामला आरोप तय करने के फेज पर आ गया है। किसी भी तरह से: रंकज और सन्नी को राहत मिल सकती है। इससे पहले उनकी जमानत याचिका के विरोध में भी पुलिस के पास ठोस सबूत नहीं थे। दोनों जमानत पर चल रहे हैं। वहीं छात्रा और आर्मी जवान जेल में हैं। बीती 17 सितंबर को यूनिवर्सिटी की छात्राओं ने स्टूडेंट स्टूडेंट के आरोप लगाए कि उन्होंने कुछ गर्ल्स रूम में न्यूड वीडियो बनाए हैं। यूनिवर्सिटी में 2 दिनों तक भारी हुकूमत और प्रदर्शन हुआ।

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में वीडियो लीक होने के बाद छात्राओं ने परिसर में किया प्रदर्शन।

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में वीडियो लीक होने के बाद छात्राओं ने परिसर में किया प्रदर्शन।

पुलिस ने एमबीए फर्स्ट ईयर की छात्रा और पैसिव से रंकज वर्मा और सन्नी मेहता को उठा कर तीनों पर मामला दर्ज किया था। बाद में अरुणाचल प्रदेश में जम्मू निवासी जवान संजीव मेहता को पोस्ट किया गया, जिसे 24 सितंबर को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस जांच में सामने आया कि पीड़ित लड़की को उसका न्यूड वीडियो के आधार पर ब्लैकमेल कर उसकी बाकी प्रेमिका की वीडियो चाह रहा था जो उसके साथ विश्वविद्यालय में विवशता में थी।

क्या चार्ट साइज में है
पुलिस ने अपने चार्ज साइज में कहा है कि उनकी जांच में साफ हुआ है कि एक्सीडेंट संजीव सिंह ने एक्सीडेंट स्टूडेंट से यूनिवर्सिटी की अन्य लड़कियों की न्यूड वीडियो और फोटो की मांग की थी। यूनिवर्सिटी में यह बात सामने आई कि विश्वविद्यालय में करीब 13 हजार छात्रों ने प्रदर्शन किया। स्थिति को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रबंधन ने 19 सितंबर से 26 सितंबर तक नामांकन का ऐलान किया था। मामले की ग्रेविटेशन को देखते हुए SIT का भी गठन किया गया था। जिसमें एसपी (काउंटर इंटेलिजेंस) रुपिंदर कौर भट्टी, रुपिंदरदीप कौर सोही, डीएसपी खरड़ और एजीटीएफ के डीएसपी दीपिका सिंह शामिल थे।

फौजी के मोबाइल पर रंकज की डीपी से प्रभावित हुई थी
पुलिस ने दशक के आधार पर छात्र और फौजी के मोबाइल फोन की फोरेंसिक जांच के पर कहा है कि 12 सितंबर, 2022 से 17 सितंबर, 2022 की चैट से पता चला है कि कुछ चैट के बाद संजीव सिंह ने छात्र से आपत्तिजनक फोटो और वीडियो मांगे थे। उसने एक व्हाट्सएप DP को देखकर प्रभावित हो गया था। उसने अपनी खुद की आपत्तिजनक फोटो और वीडियो भेजे थे। हालांकि बाद में संजीव ने उन्हें ब्लैकमेल किया और फोटो एवं वीडियो की डिमांड करने लगा। वह बाकी छात्रों की भी फोटो और वीडियो की मांग करने लगा।

आपत्तिजनक फोटो के प्रयास किए गए थे
एससी छात्र ने किसी को ब्लैकमेल किया जाने की बात बताने की बजाय संबंधित आवास की सातवीं मंजिल पर वाशरूम नंबर 2 में एक अज्ञात छात्रा की आपत्तिजनक फोटो लेने का प्रयास किया। वहीं अन्य छात्रों की फोटो खींचने का भी प्रयास किया। हालांकि वह ऐसा नहीं कर पाए। वह सिर्फ बाकी कुछ दोस्तों की सामान्य फोटो और वीडियो संजीव को डर थी।

उसी समय फोरेंसिक जांच रिपोर्ट में सामने आया कि छात्र के फोन से विश्वविद्यालय के किसी भी छात्र की आपत्तिजनक तस्वीर नहीं खींची गई। न ही उसने आगे किसी कोशिकी। संजीव सिंह के 10 कॉल और 2 मैसेज अगले छात्र को प्राप्त हुए थे। वहीं पता चला कि संजीव सिंह सूचनापुर के किसी मोहित कुमार के नाम से रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर यूज कर रहा था।

वर्किंग रूम में ऊपर से आसानी से फोटो-वीडियो बनाया जा सकता था
पुलिस ने अपनी जांच में कहा है कि संबंधित आवास की सातवीं मंजिल पर बायीं तरफ के वाशरूम के पहले वर्क रूम में फ्लोर और दरवाजे के बीच नीचे 13.3 शांतिमीटर की जगह थी। ऐसे में दरवाजे के बंद होने पर नीचे से आसानी से फोटो और वीडियो बनाया जा सकता था। वहीं दूसरे और तीसरे कमरे में दरवाजे और फ्लोर के बीच ज्यादा जगह नहीं थी कि दरवाजे के पास होने से फोटो या वीडियो बनाया जा सके। हालांकि तीनों कमरों में दरवाजे और सीलिंग के बीच 3 फीट, 4 इंच की जगह थी। कोई भी 5 फीट का व्यक्ति आसानी से हाथ उठा सकता है यहां से वीडियो और फोटो बनाई जा सकती है।

मामले में यह धाराएं जलने लगीं
पुलिस ने मामले में आईपीसी की धाराएं 354ए, 354 सी, 354 डी, 506,509, 511 एवं आईटी एक्ट की धाराएं 66 सी, 66 डी, 66 ई, 67 ए, 84 सी लगी हैं। मामले में शिकायतकर्ता विश्वविद्यालय में डीएसडब्ल्यू कार्यालय में प्रबंधक (हॉस्टल) सीजन रनआउट शिकायतकर्ता हैं। वार्डन राजविंदर कौर की कुछ लड़कियों ने कहा था कि उन्हें लग सकता है कि एक्सीडेंट छात्रों ने अपना न्यूड वीडियो बनाया है। जिसके बाद छात्र से सख्ती से पूछताछ की गई थी।

फौजी के 2 मोबाइल ज़ब्त थे
पुलिस ने फौजी संजीव सिंह के 2 मोबाइल ज़ब्त किए थे। इनकी फॉरेंसिक जांच में काफी डेटा सामने आया था। छात्र ने उसे अपना न्यूड वीडियो देखें। इसी के दम पर उसे ब्लैकमेल करने लगा था। वहीं छात्र के परिवार को भी धमकाया था। एक्ससेंस ने अपने मोबाइल में चल रहे सोशल मीडिया अकाउंट्स के जरिए स्टूडेंट से फ्रेंडशिप की थी। जिसके बाद वह वीडियो कॉलिंग के जरिए आप में बात करते थे।

खबरें और भी हैं…

[Nurpur Hindi News ]

Latest Himachal News – Nurpur News

Leave a Reply

Pin It on Pinterest